महिला ने एक साथ दिया 4 बच्चों को जन्म, देखने को उमड़ी भीड़

0
433

Desk: कुदरत अक्सर ही खुद को विज्ञान से उपर साबित करने में कामयाब हो जाती है| हम अक्सर ही ऐसा देखते हैं के जो विज्ञान के लिए सोचना भी असंभव होता है वो कुदरत कर दिखाती है| आज हम आपके लिए एक ऐसी ही घटना लेकर आये हैं जिसमे फिर एक बार कुदरत का बड़ा करिश्मा देखने को मिला है| घटना सितापुर, उत्तर प्रदेश की है जहां पर एक महिला ने एक साथ 4 बच्चों को जन्म दिया है|

बता दें के इस महिला ने एक साथ 4 बच्चों को जन्म दिया जिनमे 1 बेटा है और 3 बेटियां हैं| इतना ही नहीं बल्कि चारों बच्चे पूरी तरह से स्वस्थ भी है|

महिला नें दिया 4 बच्चों को जन्म

रेउसा थाना, सीतापुर के रहने वाले मुन्नू लाल भार्गव के घर का यह मामला है| जिनकी पत्नी मौसम देवी ने 4 बच्चों जन्म दिया है| परिजनों की माने तो बीती रात इन्हें तेज दर्द शुरू हुआ जिसपर उन्हें घरवालों नें अस्पताल ले जाने की सोची| पर अचानक दर्द बहुत अधिक बढ़ गया जिससे घर पर ही इनकी डिलीवरी करनी पड़ी| लेकिन चार चार स्वस्थ बच्चो को जन्म लेता देख इनके परिजनों के भी होश उड़ गए।

बच्चे और मां पूरी तरह स्वस्थ

बाचों के साथ मां मौसम और पिता मुन्नू काफी खुश है| पिता के अनुसार चारों बच्चे पूरी तरह से स्वस्थ है और सभी इस वक्त अच्छी देख रेख में हैं| मां की भी तबियत अब बिल्कूल नार्मल हो गयी है| जन्म के बाद कुछ घंटों के अंतराल पर डॉक्टर को बुलाया गया था जिसने अब इन बच्चों और मां को पूरी तरह खतरे से बाहर बता दिया है| पिता मुन्नू का कहना है के तीन लक्ष्मियों के साथ 4 बच्चों के पिता बनकर उनके भाग्य खुल गए हैं| उनके ऊपर साक्षात् इश्वर का आशीर्वाद है.

अगल बगल के गावों तक मची खलबली

खबरों और लोगों की बताये तो यह घटना समय के साथ काफी अधिक चर्चाओं में नजर आ रही है| लोगों के अनुसार लागल बगल के लोगों का घर में बच्चों को देखने के लिए भीड़ जमा है| सभी इस कुदरत के करिश्मे को देखने के लिए बेताब है| पिता मुन्नू ने बताया के जन्म के बाद से डाक्टरों से अधिक उनके घर पर मीडिया और रिपोर्टर्स की भीड़ लगी हुई है| लेकिन उन्होंने इस सब को अपना सौभाग्य बताते हुए ख़ुशी ज़ाहिर की|

बता दें के इन सब के साथ साथ अगल बगल के गावों में भी इस बात की चर्चा तेज है| लिहाजा पडोसी गावों के लोग भी इनके घर पर इस अजूबे को देखने के लिए पहुंच रहे हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here