दिव्य बिहार
बिहार की हर जानकारी एक साथ एक जगह

एम्स के डायरेक्टर ने कहा, कोरोना पर सख़्ती नहीं बरती तो फिर फँसेगा भारत:-डॉ. रणदीप गुलेरिया

0

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने चेतावनी दी है कि अगर कोविड के ख़िलाफ़ पर्याप्त सख़्ताई नहीं बरती गई, तो भारत एक बार फिर विकट स्थिति में फंस सकता है.

उन्होंने कहा कि ‘नये मामलों में तेज़ी आने के बाद भी लोग मास्क नहीं लगा रहे और ना ही सामाजिक दूरी का ध्यान रख रहे हैं.’

अक्तूबर 2020 के बाद, गुरुवार को पहली बार भारत में एक दिन में कोरोना के 72 हज़ार से ज़्यादा नये मामलों की पुष्टि हुई.

ताज़ा मामलों को बाद, भारत में एक्टिव मामलों की संख्या बढ़कर 5.8 लाख से अधिक हो गई है.

कोरोना महामारी
सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र में दर्ज किये गए हैं, जहाँ एक दिन में 43,183 नये मामलों की पुष्टि हुई. अकेले महाराष्ट्र में अब तक कोविड-19 से 54,898 लोगों की मौत हो चुकी है.

महाराष्ट्र कोविड-19 कार्यबल के प्रमुख डॉक्टर संजय ओक ने कहा कि ‘कोरोना से संक्रमित एक मरीज़ अन्य 400 लोगों को संक्रमित कर सकता है, इसलिए मास्क, साफ़-सफ़ाई और सामाजिक दूरी का कोई विकल्प नहीं है.’

डॉक्टर ओक ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि राज्य के कोविड-19 मरीज़ों में सर्दी-ज़ुकाम, हल्का बदन दर्द और चक्कर जैसे नये लक्षण देखने को मिले हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘बड़े पैमाने पर टीकाकरण करने में कुछ चुनौतियाँ हैं. हम घर-घर जाकर टीका लगाने की अनुमति चाहते हैं. राज्य सरकार इसे लागू करने को तैयार है, लेकिन केंद्र सरकार की अनुमति के बिना हम ऐसा नहीं कर सकते.’’

बताया गया है कि मुंबई में संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है. गुरुवार को वहाँ 8,600 से ज़्यादा नये मामले सामने आये जो इस साल, एक दिन में कोरोना के नये मामले सामने आने की सबसे बड़ी संख्या है.

कोविड-19
वहीं, दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 2790 नये मामले सामने आये. समाचार एजेंसी पीटीआई ने स्वास्थ्य अधिकारियों के हवाले से बताया कि ये इस साल एक दिन में सामने आए केसों की सबसे बड़ी संख्या है.

अधिकारियों के मुताबिक़, दिल्ली में कोविड-19 से अब तक मरने वालों की कुल संख्या 11 हज़ार 36 हो गई है.

संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को एक बैठक बुलाई है जिसमें कार्य योजना तैयार की जाएगी.

दिल्ली सरकार ने सभी क्लास के बच्चों के स्कूल आने पर पाबंदी लगा दी है.

शिक्षा निदेशालय ने एक बयान जारी कहा कि नौवीं से 12वीं तक के बच्चों को सिर्फ़ अपने शिक्षकों से मिड-टर्म, प्री-बोर्ड या बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारी के संबंध में कुछ सलाह लेने के लिए आने की अनुमति होगी.

इस बीच, आईआरसीटीसी ने कहा है कि ‘कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से अहमदाबाद-मुंबई सेंट्रल के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस ट्रेन 2 अप्रैल से एक महीने के लिए बंद की जा रही है.’

Comments
Loading...